इस ब्‍लॉग की सामाग्री के संकलन में श्री राहुल सिंह जी का विशेष योगदान है। सामाग्री संकलन अभी आरंभिक अवस्‍था में है, वर्तमान में यहां प्रकाशित जीवन परिचय हम विभिन्‍न सूत्रों से साभार प्रस्‍तुत कर रहे हैं। जैसे-जैसे जानकारी उपलब्‍ध होती जावेगी हम इसे अपडेट करते रहेंगें। प्रकाशित सामाग्री के संबंध में किसी भी प्रकार के संशोधन, परिर्वतन, परिवर्धन एवं अतिरिक्‍त सूचना के लिए आप tiwari.sanjeeva एट द gmail.com में संपर्क कर सकते हैं। आपके सुझावों का स्‍वागत है।

श्री विनोदकुमार शुक्ल

जन्म :- 01 जनवरी 1937 राजनांदगांव (छत्तीसगढ़)
वृत्ति :- इंदिरा गांधी कृषि विश्‍वविद्यालय, रायपुर में एसोसियेट प्रोफेसर
कविता संग्रह :- 'लगभग जयहिंद' 1971 (पहचान सीरीज), 'वह आदमी चला गया गरम कोट पहनकर विचार की तरह' 1981 (संभावना प्रकाशन),  'सब कुछ होना बचा रहेगा' 1992 (राजकमल प्रकाशन),  'अतिरिक्‍त नहीं' 2001 (वाणी प्रकाशन), 'कविता से लम्‍बी कविता' 2001 (राजकमल प्रकाशन), 'आकाश धरती को खटकाता है' 2006 (आधार प्रकाशन) छत्‍तीसगढ़ राज्‍य निर्माण के दौरान उनकी पंक्ति 'वह छत्‍तीसगढ़ी में झूठ बोल रहा है' चर्चित रही थी.
कहानी :- 'पेड़ पर कमरा' 1988 (पूर्वाग्रह सीरीज), 'महाविद्यालय' 1996 (आधार प्रकाशन)
उपन्‍यास :- 'नौकर की कमीज़' 1979 (राजकमल प्रकाशन), 'खिलेगा तो देखेंगे' 1999 (आधार प्रकाशन), 'दीवार में एक खिड़की रहती थी' (वाणी प्रकाशन)
फिल्‍म :- मणिकौल द्वारा 1999 में 'नौकर की कमीज़' पर फिल्‍म निर्माण, 'आदमी की औरत' और पेड़ पर कमरा' सहित कुछ कहानियों पर बनी फिल्‍म 'आदमी की औरत' निदेशक अमित को वेनिश फिल्‍म फेस्टिवल के 66 वें समारोह 2009 में स्‍पेशल इवेंट पुरस्‍कार, मणिकौल द्वारा 2010 में 'दीवार में एक खिड़की रहती थी' पर फिल्‍म निर्माण की प्रक्रिया प्रारंभ.
अनुवाद :- मेरियोला आफ्रीदी द्वारा इतालवी में अनुवादित एक कविता पुस्‍तक का इटली में प्रकाशन, इतालवी में ही 'पेड़ पर कमरा' का भी अनुवाद. इसके अलावा कुछ रचनाओं का मराठी, मलयालम, अंग्रेजी तथा जर्मन भाषाओं में अनुवाद व उपन्‍यासों का कई भारतीय भाषाओं में अनुवाद.
सम्‍मान :- गजानन माधव मुक्तिबोध फेलोशिप 1976, प्रथम रजा पुरस्‍कार 1976, रघुवीर सहाय स्‍मृति पुरस्‍कार 1992, निराला सृजन पीठ, भोपाल में अतिथि साहित्‍यकार 1994-96, दयावती मोदी कवि शेखर सम्‍मान 1997, साहित्‍य अकादमी पुरस्‍कार 1999, छत्‍तीसगढ़ का राष्‍ट्रीय 'पं. सुंदरलाल शर्मा' साहित्‍य सम्‍मान.
सम्‍प्रति :- इंदिरा गांधी कृषि विश्‍वविद्यालय में कृषि-विस्‍तार के सह प्राध्‍यापक पद से सेवानिवृत, अब स्‍वतंत्र लेखन.
संपर्क :- सी-217, शैलेन्‍द्र नगर, रायपुर, छ.ग.
दूरभाष :- 0771-2427554

3 comments:

Rahul Singh said...

विनोद जी को छत्‍तीसगढ़ का राष्‍ट्रीय 'पं. सुंदरलाल शर्मा' साहित्‍य सम्‍मान भी प्राप्‍त है.
छत्‍तीसगढ़ राज्‍य निर्माण के दौरान उनकी पंक्ति 'वह छत्‍तीसगढ़ी में झूठ बोल रहा है' चर्चित रही थी.

'उदय' said...

... bahut sundar ... behad prasanshaneey va saraahaneey blog ... badhaai va shubhakaamanaayen !
नया साल शुभा-शुभ हो, खुशियों से लबा-लब हो
न हो तेरा, न हो मेरा, जो हो वो हम सबका हो !!

mukes agrawal said...

आपको और आपके परिवार को नव वर्ष की अनंत मंगलकामनाएं

कपिलनाथ कश्यप कला कवि मुकुंद कौशल केयूर भूषण कोदूराम दलित चन्दूलाल चन्द्राकर डॉ. नरेन्द्र देव वर्मा डॉ. निरुपमा शर्मा डॉ. पालेश्वर शर्मा डॉ. विनयकुमार पाठक डॉ.परदेसी राम वर्मा डॉ.रमेश चंद्र महरोत्रा डॉ.विमल कुमार पाठक दाऊ रामचंद्र देशमुख दानेश्वर शर्मा नंदकिशोर तिवारी नारायणलाल परमार पं. द्वारिका प्रसाद तिवारी पं. बंशीधर शर्मा पं. रविशंकर शुक्ल पं. सुन्दरलाल शर्मा पं.राजेन्द्र प्रसाद शुक्ल पुरुषोत्तम लाल कौशिक बद्रीविशाल परमानंद बिसंभर यादव बैरिस्टर ठाकुर छेदीलाल भगवती सेन मंदराजी महाराज प्रवीरचन्द्र भंजदेव मिनीमाता यति यतनलाल रघुवीर अग्रवाल पथिक राजनीति रामेश्वर वैष्णव लाला जगदलपुरी विद्याभूषण मिश्र विनोद कुमार शुक्‍ल वीरनारायण सिंह शकुन्तला तरार श्यामलाल चतुर्वेदी साहित्‍य स्व. प्यारेलाल गुप्त हरि ठाकुर हाजी हसन अली हेमनाथ यदु