इस ब्‍लॉग की सामाग्री के संकलन में श्री राहुल सिंह जी का विशेष योगदान है। सामाग्री संकलन अभी आरंभिक अवस्‍था में है, वर्तमान में यहां प्रकाशित जीवन परिचय हम विभिन्‍न सूत्रों से साभार प्रस्‍तुत कर रहे हैं। जैसे-जैसे जानकारी उपलब्‍ध होती जावेगी हम इसे अपडेट करते रहेंगें। प्रकाशित सामाग्री के संबंध में किसी भी प्रकार के संशोधन, परिर्वतन, परिवर्धन एवं अतिरिक्‍त सूचना के लिए आप tiwari.sanjeeva एट द gmail.com में संपर्क कर सकते हैं। आपके सुझावों का स्‍वागत है।

दाऊ रामचंद्र देशमुख (Ramchandra Deshmukh)

जन्मः- छत्तासगढी लोककला के उद्धारक दाऊ रामचंद्र देशमुख का जन्म दुर्ग के बघेरा नामक गांव में हुआ ।

जीवन यात्राः- आपने अपने जीवन पर्यंत छत्तासगढी लोक संसकृति के संरक्षण और विकास हेतु सकारात्मक और सफल प्रयास किया । आपने छत्तीसगढी लोककला को बाह्य प्रभाव से अक्षुण्य रखने के लिए प्रथम प्रयास किया । सन् 1951 में आपने "देहाती कला मंच " की स्थापना की इसके अंतर्गत काली माटी , बंगाल का अकाल , सरग अऊ नरक , रायसाहब मि. भोंदू खान साहब नालायक अली खां , मिस मेरी का डांस जैसे दमदार और प्रभाव शाली प्रहसन प्रदर्शित किये । सन् 1971 में आपने "चंदैनी गोंदा" नाट्य पार्टी का निर्माण किया । चंदैनी गोंदा के बाद पदुमलाल पुन्नालाल बक्शी की कहानी "कारी" को 1983 में अभिनित किया गया जिसने अंचल में धूम मचा दी । आप लोक संस्कृति पर हो रहे फिल्मी प्रभाव से क्षुब्ध थे ।
आपने बिभंसर यादव , लक्ष्मण मस्तूरिहा जैसे गीतकार , खूमान साव जैसे संगीतकार , केदार यादव जैसे प्रतिभाशाली अनेक लोक कलाकारों को छत्तीसगढ के गाँवों से निकाल कर एक मंच दिया और संस्कृतिक जनजागरण को गति दी ।

अवसान :-14 जनवरी सन् 1998 को आपका देहांत हो गया ।

अन्‍य कडि़यॉं : -
आरंभ में - अंचल के पहिचान के पर्याय 

5 comments:

'उदय' said...

... badhate chalo !!

'उदय' said...

... vaise varg vibhaajan bhee sambhav hai blog par ... a- jo amar ho gaye, b- jo sthaapit hain ( varishth ), c- jo yuvaa hai tathaa sthaapit hone ki aor agrasar hain !!
... a- saamaajik kshetra men, b- saahityik kshetra men, c- raajnaitik kshetra men, d - vividh !!

'उदय' said...

... a - pradesh star par, b- raashtreey star par, c- antarraashtreey star par !!

Rahul Singh said...

मैंने बघेरा में सन 77-78 में देवार डेरा नाटक देखा था, भैयालाल हेडउ का गीत था 'ले ले ले ले ग दाउ बधिया के तेल ले ले' महान थे दाउजी.

CHANDRAMANI PATEL said...

दाऊ रामचंद्र देशमुख जी क़े जन्म कब होये रिहीस?

कपिलनाथ कश्यप कला कवि मुकुंद कौशल केयूर भूषण कोदूराम दलित चन्दूलाल चन्द्राकर डॉ. नरेन्द्र देव वर्मा डॉ. निरुपमा शर्मा डॉ. पालेश्वर शर्मा डॉ. विनयकुमार पाठक डॉ.परदेसी राम वर्मा डॉ.रमेश चंद्र महरोत्रा डॉ.विमल कुमार पाठक दाऊ रामचंद्र देशमुख दानेश्वर शर्मा नंदकिशोर तिवारी नारायणलाल परमार पं. द्वारिका प्रसाद तिवारी पं. बंशीधर शर्मा पं. रविशंकर शुक्ल पं. सुन्दरलाल शर्मा पं.राजेन्द्र प्रसाद शुक्ल पुरुषोत्तम लाल कौशिक बद्रीविशाल परमानंद बिसंभर यादव बैरिस्टर ठाकुर छेदीलाल भगवती सेन मंदराजी महाराज प्रवीरचन्द्र भंजदेव मिनीमाता यति यतनलाल रघुवीर अग्रवाल पथिक राजनीति रामेश्वर वैष्णव लाला जगदलपुरी विद्याभूषण मिश्र विनोद कुमार शुक्‍ल वीरनारायण सिंह शकुन्तला तरार श्यामलाल चतुर्वेदी साहित्‍य स्व. प्यारेलाल गुप्त हरि ठाकुर हाजी हसन अली हेमनाथ यदु